रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारतीय सैन्य अकादमी के देहरादून परिसरों को जोड़ने वाले अंडरपास के निर्माण की आधारशिला रखी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भारतीय सैन्य अकादमी के देहरादून परिसरों को जोड़ने वाले अंडरपास के निर्माण की आधारशिला रखी।

SHEIN Many GEO's

समारोह को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि, यह आश्चर्यजनक है कि इन अंडरपास के निर्माण के लिए हरी झंडी मिलने में 40 साल लग गए जिससे अकादमी के तीनों परिसरों में निर्बाध आवाजाही हो सकेगी। अब तक प्रशिक्षु कैडेटों को एक तरफ से दूसरी तरफ आने-जाने में यह एक बड़ी बाधा होती रही है, जो अब दूर हो जाएगी। यहाँ आईएमए कैडेट्स की गतिविधियों के दौरान स्थानीय लोगों के लिए भी परेशानी खड़ी हो जाती है।

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून की जनसंख्या में लगातार वृद्धि होने के साथ ही, यातायात की आवाजाही भी काफ़ी बढ़ गई है जिससे लगातार ट्रैफ़िक जाम होता रहता है। इस अंडरपास के निर्माण से राष्ट्रीय राजमार्ग-72 पर यातायात का आवागमन भी आसान हो जाएगा। इस अंडरपास से देहरादून के लोगों के अलावा, उत्तराखंड, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा के अन्य हिस्सों की जनता को भी बहुत फायदा मिलेगा।

अंडरपास का प्रस्ताव अक्टूबर, 1978 में जनरल कैडेट्स की सुरक्षा और देहरादून के लोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए किया गया था। हालांकि, स्वामित्व और वित्तपोषण के विभिन्न मुद्दों के कारण परियोजना पर काम शुरू नहीं हो सका। 7 दिसंबर, 2019 को पासिंग आउट परेड के दौरान, रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने अंडरपास के निर्माण के लिए 45 करोड़ रुपये लागत वाली परियोजना की स्वीकृति की घोषणा की थी।