सद्विचारों का निर्माण सत् अध्ययन- सत्संग से

सद्विचारों का निर्माण सत् अध्ययन- सत्संग से

कोई सद्विचार तभी तक सद्विचार हैं जब तक उसका आधार सदाशयता है, अन्यथा वह असद्विचारों के साथ ही गिना जायेगा। चूँकि मनुष्य के जीवन में हर प्रकार और हर कोटि के असद्विचार विष की तरह ही त्याज्य हैं, उन्हें त्याग देने में ही कुशल, क्षेम, कल्याण तथा मंगल है। वे सारे विचार जिनके पीछे दूसरों और अपनी आत्मा का हित सन्निहित हो सद्विचार ही होते हैं। सेवा एक सद्विचार है। जीवमात्र की निःस्वार्थ सेवा करने…

Read More

चंद्रयान 2 मिशन 95 प्रतिशत कामयाब संपर्क टूटने से केवल 5 प्रतिशत का ही हुआ नुकशान

चंद्रयान 2 मिशन 95 प्रतिशत कामयाब संपर्क टूटने से केवल 5 प्रतिशत का ही हुआ नुकशान

चंद्रयान 2 मिशन के बारे में ISRO ने बताया है की मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत ही नुकसान हुआ है जबकि 95 प्रतिशत -चंद्रयान-2 ऑर्बिटर- अभी भी चंद्रमा का सफलतापूर्वक चक्कर काट रहा है.अभी भी ऑर्बिटर चंद्रमा की कई तस्वीरें लेकर इसरो को भेज सकता है. उन्होंने कहा की अभी भी चाँद के बारे में हमे जानकारी मिलेगी। बतादें की चंद्रयान 2 चांद की सतह छूने से पहले ही इसरो का संपर्क टूट गया था।…

Read More

प्रधानमंत्री मोदी को छोड़ने निकले इसरो चीफ रो पड़े

प्रधानमंत्री मोदी को छोड़ने निकले इसरो चीफ रो पड़े

प्रधानमंत्री मोदी को छोड़ने निकले इसरो चीफ रो पड़े तभी पीएम ने उनको गले से लगाकर उनकी पीठ थपथपाई। लेकिन इसरो चीफ के चेहरे पर दुःख और निराशा साफ दिख रही थी। प्रधानमंत्री मोदी भी भाउक हो गए लेकिन उन्होंने इसरो चीफ का हौसला बढ़ाया। बतादें की भारत के 130 करोड़ लोग चंद्रयान 2 की कामयाबी का जश्न मानाने ही वाले थे की चन्द्रमा की सतह के 2.1 किमी पहले ही चंद्रयान 2 से इसरो…

Read More

भारत का चाँद पर तिरंगा लहराने का सपना अधूरा पर हौसला बरकराक

भारत का चाँद पर तिरंगा लहराने का सपना अधूरा पर हौसला बरकराक

भारत के 130 करोड़ लोग चंद्रयान 2 की कामयाबी का जश्न मानाने ही वाले थे की चन्द्रमा की सतह के 2.1 किमी पहले ही चंद्रयान 2 से इसरो का संपर्क टूट गया जिसके बाद ऐसा लगा की जैसे लोगों में मायूसी छा गई वैज्ञानिक हतास दिखे उनकी कड़ी मेहनत पर पानी फिर गया चंद्र मिशन को शनिवार तड़के उस समय झटका लगा, जब लैंडर विक्रम से चंद्रमा के सतह से महज दो किलोमीटर पहले इसरो…

Read More

विचार ही चरित्र निर्माण करते हैं

विचार ही चरित्र निर्माण करते हैं

 जब तुम्हारा मन टूटने लगे, तब भी यह आशा रखो कि प्रकाश की कोई किरण कहीं न कहीं से उदय होगी और तुम डूबने न पाओगे, पार लगोगे। चरित्र मानव- जीवन की सर्वश्रेष्ठ सम्पदा है। यही वह धुरी है, जिस पर मनुष्य का जीवन सुख- शान्ति और मान- सम्मान की अनुकूल दिशा अथवा दुःख- दारिद्र्य तथा अशांति, असन्तोष की प्रतिकूल दिशा में गतिमान होता है। जिसने अपने चरित्र का निर्माण आदर्श रूप में कर लिया उसने…

Read More

ऐसे करेंआत्मसमीक्षा

ऐसे करेंआत्मसमीक्षा

आत्म-समीक्षा (आत्मसमीक्षा ) के चार मानक हैं: – अंगों (इन्द्रियसंयम) के आत्म-संयम। समय के आत्म-संयम। पैसे की आत्म-संयम। विचारों का आत्म-संयम। यह जांच की जानी चाहिए है कि वहाँ इन मजबूरी.जीभ से किसी के संबंध में कोई उल्लंघन नहीं मना सामग्री खाने के लिए और असभ्य भाषा लैंगिकता बात करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए, कामुकता को टाला जा सकता है। अंगों के आत्म संयम शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए…

Read More

वैज्ञानिक अध्यात्म

वैज्ञानिक अध्यात्म

वैज्ञानिक अध्यात्म में वैज्ञानिक जीवन दृष्टिं एवं आध्यात्मिक जीवन मूल्यों का सुखद समन्वय है। वैज्ञानिक जीवन दृष्टिं में पूर्वाग्रहों, मूढ़ताओं एवं भ्रामक मान्यताओं का कोई स्थान नहीं है। यहाँ तो तर्क संगत, औचित्य निष्ठ, उद्देश्यपूर्ण व सत्यान्वेषी जिज्ञासु भाव ही सम्मानित होते हैं। इसमें रूढिय़ाँ नहीं प्रायोगिक प्रक्रियाओं के परिणाम ही प्रामाणिक माने जाते हैं। सूत्र वाक्य में कहें तो वैज्ञानिक जीवन दृष्टिं में परम्पराओं की तुलना में विवेक को महत्त्व मिलता है। वेदों के…

Read More