आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

1947 में जब भारत देश अंग्रेजी हुकूमत से आजाद हुआ तो हमारी राष्ट्र भाषा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हुआ क्यों की हमारे देश में अनेक भाषाएँ बोली जाती थीं। काफी सोंच विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को राष्ट्र की भाषा चुना गया. लेकिन बाद में 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. जिसके बाद पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया। और तभी से 14 सितंबर को…

Read More

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

1947 में जब भारत देश अंग्रेजी हुकूमत से आजाद हुआ तो हमारी राष्ट्र भाषा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हुआ क्यों की हमारे देश में अनेक भाषाएँ बोली जाती थीं। काफी सोंच विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को राष्ट्र की भाषा चुना गया. लेकिन बाद में 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. जिसके बाद पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया। और तभी से 14 सितंबर को…

Read More

विचार ही चरित्र निर्माण करते हैं

विचार ही चरित्र निर्माण करते हैं

 जब तुम्हारा मन टूटने लगे, तब भी यह आशा रखो कि प्रकाश की कोई किरण कहीं न कहीं से उदय होगी और तुम डूबने न पाओगे, पार लगोगे। चरित्र मानव- जीवन की सर्वश्रेष्ठ सम्पदा है। यही वह धुरी है, जिस पर मनुष्य का जीवन सुख- शान्ति और मान- सम्मान की अनुकूल दिशा अथवा दुःख- दारिद्र्य तथा अशांति, असन्तोष की प्रतिकूल दिशा में गतिमान होता है। जिसने अपने चरित्र का निर्माण आदर्श रूप में कर लिया उसने…

Read More

सद्विचारों का निर्माण सत् अध्ययन- सत्संग से

सद्विचारों का निर्माण सत् अध्ययन- सत्संग से

कोई सद्विचार तभी तक सद्विचार हैं जब तक उसका आधार सदाशयता है, अन्यथा वह असद्विचारों के साथ ही गिना जायेगा। चूँकि मनुष्य के जीवन में हर प्रकार और हर कोटि के असद्विचार विष की तरह ही त्याज्य हैं, उन्हें त्याग देने में ही कुशल, क्षेम, कल्याण तथा मंगल है। वे सारे विचार जिनके पीछे दूसरों और अपनी आत्मा का हित सन्निहित हो सद्विचार ही होते हैं। सेवा एक सद्विचार है। जीवमात्र की निःस्वार्थ सेवा करने…

Read More