मनुष्य जीवन में भक्ति का महत्व

मनुष्य जीवन में भक्ति का महत्व

मनुष्य जीवन में भक्ति का महत्व . मनुष्य जीवन में जब भक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।मनुष्य मे जब भक्ति प्रवेश करती है तो उसका दिल गंगाजल की तरह पावन पवित्र हो जाता है । भक्ति ईश्वर की एक ऐसी शक्ति जिससे मनुष्य को अपार उर्जा प्रदान होती है।जब मनुष्य पर भक्ति सवार होती है तो सारा जीवन ईश्वरमय हो जाता है और जब भक्ति दैनिक दिनचर्या में आ जाती है तो हर कार्य में…

Read More

मनुष्य जीवन में उपासना का महत्व

मनुष्य जीवन में उपासना का महत्व

मनुष्य जीवन में “उपासना” का बहुत महत्व होता है ।पूजा पाठ अर्चना और उपासना में बहुत फर्क होता है ।उपासना से अपेक्षाओं व इच्छाओं की पूर्ति नहीं होती है ।उपासना वासना से रहित प्रेम से परिपूर्ण व सराबोर होती है ।बिना उपासना के आनंद की अनुभूति नहीं होती है और न ही इन्द्रियो को सुख ही मिलता है।उपासना से आत्मा को आनंद मिलता है और मन नियन्त्रित होता है।मन बेलगाम घोड़े की तरह स्वच्छद विचरने…

Read More

देशभर में मनाई जा रही जन्माष्टमी देखिये तस्वीरें

देशभर में मनाई जा रही जन्माष्टमी देखिये तस्वीरें

भगवान श्रीकृष्ण के 5249वां जन्ममहोत्सव आज यानि शुक्रवार को मनाया जाएगा। ब्रज के कण-कण में उल्लास है। अपने गोपाल के जन्मोत्सव को मनाने के लिए हर कोई उत्साहित है। कन्हैया के जन्मोत्सव में शामिल होने देश-विदेश से लोग यहां पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को कन्हैया का जन्मोत्सव मनाया जाएगा। श्री कृष्ण जन्मस्थान ही नहीं, सभी मंदिर और घर-घर में इसकी तैयारी हो चुकी हैं। मंदिरों और बाजारों को सजाया गया है। हजारों लोग ब्रज में…

Read More

जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने सभी को बधाई दी

जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने सभी को बधाई दी

हमारे देश में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में श्री कृष्ण को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। उनके जन्म की ख़ुशी में लोग व्रत रखते हैं। और रात्रि 12 बजे बड़ी धूम धाम जन्माष्टमी मनाते हैं। हर वर्ष की भाँति इस बार भी जन्माष्टमी का त्यौहार बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जा रहा है। जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने सभी…

Read More

76वें स्वतंत्रता दिवस पर फहराया तिरंगा

76वें स्वतंत्रता दिवस पर फहराया तिरंगा

15 अगस्त 1947 को हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हुआ था। और हम आजाद हो गए थे। इसीलिए 15 अगस्त हम हर साल आजादी का पर्व मानते हैं। इस बार हमारी हमारी आजादी के 75 साल पूरे हो गए और हम ७६वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। इस लिए यह बहुत खास है। इस बार स्वतंत्रता दिवस को बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जा रहा है। आजादी के 75 वर्ष पूरे होने…

Read More

जाति धर्म मायामोह में फंसता मनुष्य

जाति धर्म मायामोह में फंसता मनुष्य

जाति धर्म मायामोह में फंसता मनुष्य . ईश्वर जीव को मनुष्य बनाकर इस धराधाम पर भेजता है वह जीव को हिन्दू मुसलमान सिख ईसाई बनाकर नहीं बल्कि सिर्फ और सिर्फ इंसान बनाकर इस धराधाम पर भेजता है। हिन्दू मुसलमान सिख ईसाई आदि तो पैदा होने के बाद जीव को बनाया जाता है।जीव जब माँ के उदर से बाहर आता है तो ईश्वर के समान निर्विकार होता है इसीलिए जब बच्चा मुस्कारता है तो कहा जाता…

Read More

मनुष्य जीवन में प्रकाश रूपी ज्ञान

मनुष्य जीवन में प्रकाश रूपी ज्ञान

मनुष्य जीवन में प्रकाश रूपी ज्ञान . मनुष्य जीवन प्रकाशमय होना जरूरी होता है क्योंकि मानव जीवन में अन्धेरा मानव जीवन की सबसे बड़ी विफलता होती है।जिस तरह अंधेरा दूर करने के लिए रोशनी जरूरी है उसी तरह मनुष्य जीवन को प्रकाशवान बनाने के लिये ज्ञान के प्रकाश की आवश्यकता होती है।ज्ञान की प्राप्ति के लिये अच्छे ज्ञानवान संत महात्माओ व सुसंस्कारित लोगों के साथ बैठकर उनसे शिक्षा दीक्षा लेना आवश्यक होता है। ज्ञान का…

Read More

गुरू आश्रय

गुरू आश्रय

दीक्षा की प्रार्थना लेकर जब दिलीप राय उन सन्त के पास पहुँचे। तो वह इस पर बहुत हँसे और कहने लगे- “तो तुम हमें श्री अरविन्द से बड़ा योगी समझते हो। अरे वह तुम पर शक्तिपात नहीं कर रहे, यह भी उनकी कृपा है।” दिलीप को आश्चर्य हुआ- ये सन्त इन सब बातों को किस तरह से जानते हैं। पर वे महापुरुष कहे जा रहे थे, “तुम्हारे पेट में भयानक फोड़ा है। अचानक शक्तिपात से…

Read More

मनुष्य जीवन में निरोगी काया का महत्व

मनुष्य जीवन में निरोगी काया का महत्व

मनुष्य जीवन में कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो जीवन को धन्य बना देती है और उनके अभाव में जीवन नर्क जैसा बन जाता है। मनुष्य का सबसे बड़ा कीमती तोहफा स्वास्थ्य यानी सेहत होता है क्योंकि निरोगी काया ईश्वर की बहुत बड़ी नियामत होती है जो सौभाग्यशाली को ही मिलती है।रोगी जीवन नर्क जैसी कष्टदायक एवं निरोगी काया स्वर्ग जैसी सुखदायक होती है। इसी तरह मानव जीवन में संतोष सबसे बड़ा धन होता है…

Read More

मनुष्य जीवन में भाग्य की भूमिका एवं महत्व पर विशेष

मनुष्य जीवन में भाग्य की भूमिका एवं महत्व पर विशेष

इस धराधाम पर आने वाले प्रत्येक मनुष्य की भाग्य एक जैसी नहीं होती है बल्कि हर एक मनुष्य की भाग्य अलग- अलग होती है। मनुष्य को अपनी भाग्य के अनुरूप फल मिलता है।भाग्य अनुसार कोई राजसी जीवन तो कोई भीखमंगा जीवन व्यतीत करता है।वैसे तो पत्थर जड़ होता है और इधर उधर पड़ा रहता है।लेकिन वहीं पत्थर जब भाग्य से किसी मंदिर में मूर्ति बनकर पहुँच जाता है तो वह भगवान बन जाता है और…

Read More
1 2 3 4