मनुष्य और मनुष्यता

मनुष्य और मनुष्यता

मनुष्य का मनुष्य के काम आना ही उसके मनुष्य होने का प्रमाण होता है जो मनुष्य होकर भी मनुष्य के काम न आवे उसे मनुष्य कहा ही नहीं जा सकता है। किसी कवि ने कहा भी है कि – “– मनुष्य वहीं है जो कि मनुष्य के लिये मरे”।आजकल मनुष्य के लिये मनुष्य का मरना तो दूर ढंग से उससे बात करने तक के लिये तैयार नहीं है।मनुष्य होने की पहचान मानी जाने वाली मनुष्यता…

Read More

दुष्प्रवत्तियों के चंगुल में फंसा मनुष्य

दुष्प्रवत्तियों के चंगुल में फंसा मनुष्य

हम सभी इस संसार मे नंगे ही आये है और अंत मे कफन ही साथ जाता है।हम जीवन भर इसी चार गज कफन के लिए के दौडते रहते हैं ।यहाँ तक कि सारे वसूल सिद्धांत तोड़ देते हैं और मानवता से कोसो दूर भाग जाते हैं। न तो कभी अपने को अपनी नजर से देख पाते हैं और न ही कभी खुद को पहचान ही पाते हैं । कमाई की आपा धापी में कभी यह…

Read More

76वें स्वतंत्रता दिवस पर फहराया तिरंगा

76वें स्वतंत्रता दिवस पर फहराया तिरंगा

15 अगस्त 1947 को हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हुआ था। और हम आजाद हो गए थे। इसीलिए 15 अगस्त हम हर साल आजादी का पर्व मानते हैं। इस बार हमारी हमारी आजादी के 75 साल पूरे हो गए और हम ७६वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। इस लिए यह बहुत खास है। इस बार स्वतंत्रता दिवस को बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जा रहा है। आजादी के 75 वर्ष पूरे होने…

Read More

जाति धर्म मायामोह में फंसता मनुष्य

जाति धर्म मायामोह में फंसता मनुष्य

जाति धर्म मायामोह में फंसता मनुष्य . ईश्वर जीव को मनुष्य बनाकर इस धराधाम पर भेजता है वह जीव को हिन्दू मुसलमान सिख ईसाई बनाकर नहीं बल्कि सिर्फ और सिर्फ इंसान बनाकर इस धराधाम पर भेजता है। हिन्दू मुसलमान सिख ईसाई आदि तो पैदा होने के बाद जीव को बनाया जाता है।जीव जब माँ के उदर से बाहर आता है तो ईश्वर के समान निर्विकार होता है इसीलिए जब बच्चा मुस्कारता है तो कहा जाता…

Read More

गुरू आश्रय

गुरू आश्रय

दीक्षा की प्रार्थना लेकर जब दिलीप राय उन सन्त के पास पहुँचे। तो वह इस पर बहुत हँसे और कहने लगे- “तो तुम हमें श्री अरविन्द से बड़ा योगी समझते हो। अरे वह तुम पर शक्तिपात नहीं कर रहे, यह भी उनकी कृपा है।” दिलीप को आश्चर्य हुआ- ये सन्त इन सब बातों को किस तरह से जानते हैं। पर वे महापुरुष कहे जा रहे थे, “तुम्हारे पेट में भयानक फोड़ा है। अचानक शक्तिपात से…

Read More

मनुष्य जीवन में निरोगी काया का महत्व

मनुष्य जीवन में निरोगी काया का महत्व

मनुष्य जीवन में कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो जीवन को धन्य बना देती है और उनके अभाव में जीवन नर्क जैसा बन जाता है। मनुष्य का सबसे बड़ा कीमती तोहफा स्वास्थ्य यानी सेहत होता है क्योंकि निरोगी काया ईश्वर की बहुत बड़ी नियामत होती है जो सौभाग्यशाली को ही मिलती है।रोगी जीवन नर्क जैसी कष्टदायक एवं निरोगी काया स्वर्ग जैसी सुखदायक होती है। इसी तरह मानव जीवन में संतोष सबसे बड़ा धन होता है…

Read More

सब कुछ करता तू ही

सब कुछ करता तू ही

सब कुछ करता तू ही एक बार मेरी धर्मपत्नी बहुत गम्भीर रूप से बीमार हो गईं। उन्हें दमा की बोमारी थी । हालत इतनी खराब थी कि पानी में हाथ डालना भी मुश्किल था। कोई भी काम अपने हाथ से नहीं कर पातीं। केवल हम दो व्यक्तियों के परिवार में घर के काम-काज के लिए दो लड़कियों को रखना पड़ा। अपनी दोनों बेटियों का विवाह हो चुका था। वे अपने परिवार की जिम्मेदारियों को छोड़कर…

Read More

सावन शिव और सोमवार पर विशेष

सावन शिव और सोमवार पर विशेष

साल के बारह महीनों में सावन का विशेष महत्व होता है क्योंकि इस महीने में धरती हरी भरी हरियाली से सज धज बिरह एवं मिलन की प्रतीक बन जाती है।यही कारण है कि यह महीना भगवान शिव का प्रिय माह माना जाता है और मान्यता है कि वह पूरे महीने धरती पर विराजमान रहकर भक्तों का कल्याण करते हैं।सावन महीने और उसके चारों सोमवारों के बारे तमाम तरह के प्रसंग प्रचलित हैं। सावन शिव और…

Read More

अवध क्षेत्र को आध्यात्मिक क्षेत्र बनाने हेतु

अवध क्षेत्र को आध्यात्मिक क्षेत्र बनाने हेतु

सतयुग के प्रारम्भ में वैदिक मन्त्र द्रष्टा ऋषियों ने जिस भूमी पर तप करके वैदिक ऋचाओं  का दर्शन किया था। वह हमारा अवध क्षेत्र ही है। इसलिए सतयुग की पुनर्स्थापना के लिए भगवान श्री राम ने इस अवध क्षेत्र (अयोध्या ) में ही जन्म लेकर त्रेता युग में सतयुग की स्थापना की थी। क्योकि सतयुग की स्थापना के लिए उपयुक्त भूमि और और सतयुग के बीज इसी क्षेत्र में सुप्तावस्था में पड़े थे। “सब नर…

Read More

कलयुग का कल्पवृक्ष श्री हनुमान चालीसा

कलयुग का कल्पवृक्ष श्री हनुमान चालीसा

कहा जाता है कि देवराज इंद्र के यंहा कोई वृक्ष है जिसके नीचे बैठकर जो भी कल्पनाएं करते हैं वे उन लोगों को तुरंत उपलब्ध हो जाती हैं। कल्पवृक्ष यह नहीं देखता कि यह कल्पना करने वाला छोटा, बड़ा, अमीर, गरीब, पवित्र, अपवित्र कैसा है। कल्पना करते ही वह साकार होने लगती है। ठीक इसी प्रकार श्री हनुमान चालीसा के पाठ की साधना करने वाला जिस किसी कामना को लेकर चालीसा का पाठ करने लगता…

Read More
1 2 3