मनुष्य जीवन में उपासना का महत्व

मनुष्य जीवन में उपासना का महत्व

मनुष्य जीवन में “उपासना” का बहुत महत्व होता है ।पूजा पाठ अर्चना और उपासना में बहुत फर्क होता है ।उपासना से अपेक्षाओं व इच्छाओं की पूर्ति नहीं होती है ।उपासना वासना से रहित प्रेम से परिपूर्ण व सराबोर होती है ।बिना उपासना के आनंद की अनुभूति नहीं होती है और न ही इन्द्रियो को सुख ही मिलता है।उपासना से आत्मा को आनंद मिलता है और मन नियन्त्रित होता है।मन बेलगाम घोड़े की तरह स्वच्छद विचरने…

Read More

76वें स्वतंत्रता दिवस पर फहराया तिरंगा

76वें स्वतंत्रता दिवस पर फहराया तिरंगा

15 अगस्त 1947 को हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हुआ था। और हम आजाद हो गए थे। इसीलिए 15 अगस्त हम हर साल आजादी का पर्व मानते हैं। इस बार हमारी हमारी आजादी के 75 साल पूरे हो गए और हम ७६वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। इस लिए यह बहुत खास है। इस बार स्वतंत्रता दिवस को बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जा रहा है। आजादी के 75 वर्ष पूरे होने…

Read More

पं श्रीराम शर्मा आचार्य का जीवन अखण्ड दीपक

पं श्रीराम शर्मा आचार्य का जीवन अखण्ड दीपक

पं श्रीराम शर्मा आचार्य का जीवन अखण्ड दीपक . अखण्ड दीपक मैंने जलाया और अखण्ड दीपक के सामने बैठा रहा, गायत्री मंत्र का जप करता रहा और भावविभोर साँप जैसे लहराते हैं, ऐसे ही मैं लहराता रहा और मैं अपने आपसे पूछता रहा कि ‘‘दीपक के तरीके से तू जल सकता है, दूसरों को रोशनी देने के लिये’’। छदाम का दीपक, कानी कौड़ी का तेल, एक कानी कौड़ी का इसमें रूई, इन सबको मिलाकर के…

Read More

मनुष्य जीवन में प्रकाश रूपी ज्ञान

मनुष्य जीवन में प्रकाश रूपी ज्ञान

मनुष्य जीवन में प्रकाश रूपी ज्ञान . मनुष्य जीवन प्रकाशमय होना जरूरी होता है क्योंकि मानव जीवन में अन्धेरा मानव जीवन की सबसे बड़ी विफलता होती है।जिस तरह अंधेरा दूर करने के लिए रोशनी जरूरी है उसी तरह मनुष्य जीवन को प्रकाशवान बनाने के लिये ज्ञान के प्रकाश की आवश्यकता होती है।ज्ञान की प्राप्ति के लिये अच्छे ज्ञानवान संत महात्माओ व सुसंस्कारित लोगों के साथ बैठकर उनसे शिक्षा दीक्षा लेना आवश्यक होता है। ज्ञान का…

Read More

हमें नेता नहीं सृजेता चाहिए

हमें नेता नहीं  सृजेता चाहिए

देश एवं समाज को उन्नत बनाने के लिए तथा उसे श्रेष्ठ और समुन्नत मार्ग पर बढ़ाने के लिए विशिष्ट व्यक्तियों की आवश्यकता होती है, यह गुरुतर भार सामान्य व्यक्ति नहीं संभाल सकता, इसके लिए प्रतिभाशाली नेतृत्व गुण संपन्न महामानव चाहिए वही समाज को अच्छी दिशा दे सकने में समर्थ हो सकता है। “प्रभावशाली नेता केवल मंच संभालने मात्र से कोई नहीं बन जाता उन्हें कुछ कर्तव्य करने होते हैं और कुछ दायित्व भी निभाने होते…

Read More

कार्य की समृद्ध फसल (कर्म)

कार्य की समृद्ध फसल (कर्म)

मानव जीवन एक ऐसा क्षेत्र है, जहां कर्म बोए जाते हैं और उनके अच्छे या बुरे फल काटे जाते हैं। जो अच्छे कर्म करता है, उसे अच्छा फल मिलता है। बुरे कर्म करने वाले को बुरे फल मिलते हैं। यह कहा जाता है। “जो आम बोएगा, वह आम खाएगा, जो बबूल बोएगा, उसे काँटे मिलेंगे।” जिस प्रकार बबूल की बुवाई से आम प्राप्त करना प्रकृति में संभव नहीं है, उसी प्रकार बुराइयों के बीज बोने…

Read More

राष्ट्र कुण्डलिनी

राष्ट्र कुण्डलिनी

सृजन ही प्रकृति की नियति है और नित नया रूप देखना मानव का स्वभाव। समय की गति के साथ हर एक पदार्थ का रूपांतरण होकर नए कलेवर के रूप में बदलता रहता है यदि यंहा पर किसी का अवसान दीखता है तो वह भी नए रूप में प्रस्तुत होने के लिए। भारतीय दर्शन के अनुसार परमात्मा ने सबसे पहले प्राण शक्ति स्वरुप ॐ को प्रकट किया। उससे प्रकाश-ज्ञान का सृजन हुआ। उसी से सृष्टि में…

Read More

रंगभूमि और आज का यथार्थ

रंगभूमि और आज का यथार्थ

कालजयी साहित्य पुरुष कथाकार प्रेमचंद जी का वह साहित्य जिसने अपने समय में हर पढ़ने वालों में स्वतत्रता की आग पैदा कर दी थी। जिसे समझकर हर व्यक्ति के मन में उन परिस्थियों से लड़ने का भाव पैदा हो गया था। आज उन्ही में से ‘रंग भूमि’ उपन्यास विवादों में है। जिसको पढ़ कर आज के तथा कथित मार्डन लोग यह कहते हैं कि इसमें तो दुःख ही दुःख है , तथा इसके द्वारा प्रेमचंद…

Read More

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

1947 में जब भारत देश अंग्रेजी हुकूमत से आजाद हुआ तो हमारी राष्ट्र भाषा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हुआ क्यों की हमारे देश में अनेक भाषाएँ बोली जाती थीं। काफी सोंच विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को राष्ट्र की भाषा चुना गया. लेकिन बाद में 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. जिसके बाद पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया। और तभी से 14 सितंबर को…

Read More

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

आज हिंदी दिवस है जाने हिंदी दिवस की दिलचस्प बातें

1947 में जब भारत देश अंग्रेजी हुकूमत से आजाद हुआ तो हमारी राष्ट्र भाषा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हुआ क्यों की हमारे देश में अनेक भाषाएँ बोली जाती थीं। काफी सोंच विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को राष्ट्र की भाषा चुना गया. लेकिन बाद में 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. जिसके बाद पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया। और तभी से 14 सितंबर को…

Read More
1 2